मंगलवार, 30 अप्रैल 2013

यूं ही नहीं प्रेम शाश्वत है






तादात्मय सम्बन्ध 
जरुरी... 
दो पंखों के मध्य 
प्रेम की 
उड़ान के लिए !

और उतनी ही जरुरी 
स्वतंत्रता... 
गहरी जड़ों में 
बिना खोये 
अपनी  श्रद्धा और निष्ठा !
 
जैसे बूँद बूँद 
में है सक्षमता...
सागर  सृजन की 
और धरती में उपज की 

प्रेम में भी 
श्वास लेने की क्षमता 
ओसकण सी अनुभूति 
क्षण क्षण 
रखती है तरोताजा 

प्रेम में है प्रतिपल 
पुनरावृत्ति सी  
मरण 
और पुनर्जीवन की
  



तभी शायद प्रेम अजर है, अमर है 
यूं ही नहीं प्रेम शाश्वत है !