शनिवार, 21 अप्रैल 2012

इश्क



ग़ुलामी इश्क में मन्नत....
तबाही इश्क में जन्नत..
खुदी का दम भरना..
मुहब्बत में न करना...
...वन्दना..