गुरुवार, 31 मार्च 2011

मानव

मानव -संसार में सर्वत्र सर्वोच्च
उच्चतर व्यक्तित्व का अन्वेषी ,
आलोकित - 'सत्यम , शिवम , सुन्दरम ' की
गहन अनुभूतियों से...
सक्षम धरती की धुल में फूल खिलाने में....
सर्वश्रेष्ठ कृति - प्रकृति की------मानव !

***************************



मानव - मानवीय यथार्थ के मरण
और ,
अमूर्त यथार्थ के आरोपण
की व्यथा झेलता....
नियातियों में बंधा / विवश
संभावनाओं एवं आश्वासनों को तलाशता
जीवन और मृत्यु की
उठती - गिरती साँसों पर
डगमगाती छवि - शक्ति की --------मानव !
.....वन्दना.......