रविवार, 20 नवंबर 2011

स्वप्न....

स्वप्न....
परम सुन्दर....
परम वैभव...
परम मोहक...
क्षितिज सा दूर दुर्लभ...
...वन्दना...