रविवार, 20 नवंबर 2011

स्वप्न....

स्वप्न और आस...
मन में द्रवित अहसास....
टूटे तो वेदना का मौन..
अनगनित तरल उच्छ्वास...
...वन्दना...