रविवार, 7 अगस्त 2011

कर लें अब यह चिंतन मन में...

प्रखर प्रभाव भरें जन-जन में...

शान्ति दीप जलें जीवन में...

करुणा धार रहे न मन में....
...वंदना...