मंगलवार, 16 अगस्त 2011

जागीर ना समझा मह्बूब कभी
बड़े सलीके से निभाते रहे....
उनके करम के सदके रहे
अपना भरम आजमाते रहे...
...वन्दना...