गुरुवार, 28 जुलाई 2011

उफ़ वो आँखे...






उफ़ वो आँखें रोती -रोती
यूँ  ही जीवन खोती-खोती



                  उन आँखों से उन गालो पर
                  बन कर बहते मोती -मोती 




अपने  घर में वो इक लड़की
डरती है क्यूँ सोती -सोती


                
                   उमर भर रोती रही वो
                  अब हंसी तो रोती-रोती




होती नहीं नुमायाँ  चाहत  
हों जायेगी होती -होती



     ......वन्दना.....