शुक्रवार, 22 जुलाई 2011

चेतना...

जब उर उपजी संवेदना
चित चेतन मन की चेतना

निरर्थक व्यथा और वेदना
निस्सीम निशित साधना...
...वन्दना....