शुक्रवार, 16 मार्च 2012

ग़ज़ल....



मुकम्मिल न हो सका अबस मेरा ख्वाब था ।
महताब आसमाँ का मेरा इन्तिख्वाब था  ।।

बे.कायदा भी बनती फकत यूँ न बन सकी ।
मेरी हर खता पे रहमत उसका जवाब था ।।

बढ़ चली थी इस कदर खुदगर्जियाँ इंसान  की ।
रिश्तों का एहतराम निभाना अजाब था ।।   

एहतियातन कर लिया उससे किनारा मैंने ।
दिलशाद बिछड़ कर मुझसे मेरा अहबाब था ।।

बगावत का हर ख्याल बखूबी भुला दिया ।
निभाना इश्क में वफ़ा का कारे सराब था ।।

रिवाज़ों की गिरफ्फत से मुसल्लत थी इस कदर ।
कि सर पे मेरे संगदिली का खिताब था ।।

...वन्दना...




10 टिप्‍पणियां:

  1. दिल की तहों में उतर जानेवाली गजल.....
    याद आ रही हैं मुझे मेरी पसंदीदा इक और गजल.....
    "मुझे कहाँ मेरे अंदर से वो निकालेगा
    पराई आग में कोई ना हाथ डालेगा
    वो आदमी भी किसी रोज अपनी खलवत में
    मुझे ना पा के कोई आईना लगा लेगा"
    ईश्वर सदैव आप पर अपनी कृपा बनाए रखे.......

    जवाब देंहटाएं
  2. wow... kya baat hai vandana... this is composed so well... truly awesome.... GOD BLESS U...:)

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी बनी गजल । बढा मजा आया पढ्ने मे ।

    जवाब देंहटाएं
  4. badh chali thi iss kadar khudgarjiyan insaan ki..
    rishto ka ahtramm nibhana ajaab tha...:)
    waise thi nahi....... hai... aur ye badhit hi ja rahi hai..:)
    sabse sahi pankti ye lagi... samajh paya isliye kah raha hoon!!
    aap ham jaise pathak ke shabdo me kahen to behtareen likhte ho...:)

    जवाब देंहटाएं
  5. रिवाज़ों की गिरफ्फत से मुसल्लत थी इस कदर ।
    कि सर पे मेरे संगदिली का खिताब था ।।
    अनुपम भाव संयोजन लिए ...बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    जवाब देंहटाएं
  6. nice blog checkout mine on

    http://www.onjokes.blogspot.com

    feel free to leave a comment

    जवाब देंहटाएं
  7. be kayda bhi banti fakat yu na ban saki
    ishq me wafa ka kaare sarab tha...

    kitni sudar aur sahaj gajal..really well composed..

    जवाब देंहटाएं
  8. This is very attention-grabbing, You’re an excessively professional blogger. I have joined your feed and look forward to in the hunt for extra of your excellent post. Additionally, I have shared your web site in my social networks.
    escorts in delhi

    जवाब देंहटाएं
  9. Very well done Vandana....
    behatreen prastuti........
    ek ek sher lajwab hai.......

    जवाब देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रिया निश्चित रूप से प्रेरणा प्रसाद :)